Ad

Tag: Satire

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को रुकवाने को लामबंद,छत्तीसगढ़ असेंबली निर्माण रुकवा देते

झल्लीगल्लां
काँग्रेसीचीयरलीडर

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट

ओए झल्लेया!ये क्या हो रहा है? ओए मुल्क में देशवासी कोरोना से त्रस्त हैं।दवाएं नही मिल रही+डॉक्टर्स नही दिख रहे+चिकित्सीय उपकरणों के भाव आसमान छू रहे हैं और तो और वैक्सीन तक नही लग पा रही और ये मोदी सरकार सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर अरबों रुपये फूंक रही है।हसाडे नेर्तत्व में विपक्ष ने तुरन्त विस्टा प्रोजेक्ट को रोकने और कोरोना के खात्मे के लिए खजाने खोलने को कह दिया है
झल्ला
Jhallaa Cartoonओ मेरे चतुर सुज़ान ! गल तो आपजी की दुरुस्त है लेकिन आपकी पार्टी की सरकार छत्तीसगढ़ में हैं और वहां भी पौने तीन सौ करोड़ ₹ की लागत से असेंबली भवन बन रहा है अगर उसे पहले रुकवा कर सेंट्रल विस्टा की बात करते तो लोगों को अधिक अपील करता

कोरोना के भमबड़भूसे से त्रस्त सियासतदां मुल्क को लॉक डाउन की गदिघेड़ में डाल रहे

झल्लीगल्लां
चिन्तितनागरिक
Corona Lock Downओए झल्लेया! ये क्या हो रहा है? सियासतदां तो हसाडे सोण मुल्क को किस गदिगेड़ में डाले जा रहे हैं??
पहले कहते तो कि लॉकडाउन नही लगेगा ,और अब दिल्ली,उत्तरप्रदेश,हरियाणा,पंजाब ,राजस्थान आदि में किसी न किसी छद्म नाम से 17 मई तक लॉक डाउन बढ़ा दिया गया।ओये मजदूर बेचारे फिर पलायन को मजबूर होने लग गए
झल्ला
भापाझल्ला जी! कोरोना किसी के भी काबू में नही आ रहा शायद इसीलिए भम्भडभूसे में डाले रखना चाहते हैं।

जमीनी मुद्दों को पहचान कर बंजर चेलों के गुणगान से परहेज लाभकारी होगा

झल्लीगल्लां
भजपाई चेयरलीडर
Elections ओए झल्लेया! हसाडे मुल्क में अब अच्छाइयों का जमाना ही नही रहा।ओए हसाडे देवतुल्य प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी ने जनता के सभी वर्ण+धर्म+सम्प्रदायों के साथ आर्थिक वर्गों के कल्याण के लिए दिन रात एक किया हुआ है लेकिन चुनांवों में इन्हें हराने के लिए इनके विरुद्ध दुष्प्रचार किया जा रहा है।इसी के फलस्वरूप बंगाल+तमिलनाड में हार हो गई।उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव में भी विपक्षी दुष्प्रचारी एकट्ठा हो गए।ये तो शुक्र है के असम और पुडुचेरी में इज्जत बच गई वरना इन्होंने तो कोई कसर बाकी नही छोड़ी थी
झल्ला
झल्लाओ मेरे चतुर सेठ जी !अंतराष्ट्रीय ख्याति पाने के लोभ में आपलोगों के पावँ जमीनी हकीकत से उठ चुके है।खैर इसे चेतावनी समझ कर असली मुद्दों को पहचान कर अपने बंजर चेलों के गुणगान से परहेज लाभकारी होगा

सुप्रीमकोर्ट जी!निरन्तर महंगी हो रही न्याय व्यवस्था को मुफ्त कराने को भी प्रयास जरूरी

झल्लीगल्लां
चिन्तितनागरिक
Judiciaryओए झल्लेया!ये क्या हो रहा है? ओए मुल्क में नोटों के बंडल लेकर घूम रहे कोरोना मरीजों को पर्याप्त उपचार नही मिल रहा प्राइवेट अस्पतालों में 250 ₹ में भी टीका नही लग रहा और माननीय सुप्रीम कोर्ट फ्री में सभी को टीके लगवाने का फरमान जारी कर रही है।
झल्ला
झल्लाभापा जी!बेशक जान बचाने को सभी विकल्प खुले रहने चाहिए लेकिन कहा गया है कि “चैरिटी बिगिन्स एट होम” सो माननीय सर्वोच्च न्यायालय जी को स्वत संज्ञान में लेकर दिनों दिन महंगी होती जा रही न्याय व्यवस्था को मुफ्त कराने को भी प्रयास करने चाहिएं।

कैप्टेन और लाफिंग जट्ट दोनों सिद्धू लेकिन इनमें सीधा कोई भी नही

strong>झल्लीगल्लां
कांग्रेसीचिंतक
ओए झल्लेया! ये हसाडे पंजाबी शेर किस गदिघेड़ में फंस गए।मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिन्दरसिंह और लाफिंग जट्ट सिद्धू ने एक दूसरे पर शब्द बाण चलाने शुरू कर दिए।ओए इससे तो भगवा वालों ने बढ़त हासिल कर लेणी है।
झल्ला
झल्लाचतुर सुजाणा!कैप्टेन और लाफिंग जट्ट दोनों ही सिद्धू हैं लेकिन इनमें सीधा कोई भी नही है।नवजोत सिंह ने अकालियों के नाम पर कैप्टेन को घेरा तो सीएम ने बेअदबी+गोलीकांड+ड्रग्स माफिया+रेत माफिया और नवीनतम कॉरोनानुसरों के विरुद्ध अपनी असफलताओं को दरकिनार करते हुए व्हिसल ब्लोअर नवजोत को चुनाव लड़ने की चुनोती दे दी।और तो और नवजोत को अनुशासनहीन कांग्रेसी बता कर नवजोत के दिल्ली में बैठे कैप्टेन को भी चेतावनी दे डाली

नगर निकायों में बेशक कोविड हेल्प डेस्क बनाओ लेकिन गले मे घण्टी भी बांधो

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
Jamos Cartoonओए झल्लेया!देखा हसाडी सरकार हर मोर्चे पर मुस्तैद है। कोरोना के विरुद्ध सुरक्षात्मक व्यवस्था खड़ी करने में हम सबसे आगे हैं।उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री श्री आशुतोष टण्डन जी ने सभी नगर निकायों में कोविड हेल्प डेस्क बनाने के आदेश जारी कर दिए है।ओये अब दफ़्तरों में भीड़ भाड़ नही होगी हेल्प डेस्क पर ही हेल्थ सम्बन्धी सभी मदद मुहैया करवा दी जाएगी।
झल्ला
झल्लाओ भोले सेठ जी!नगर निकायों में बेशक कोविड हेल्प डेस्क बनाओ लेकिन गले मे घण्टी भी बांधो
इन बिल्लियों के गले मे घण्टी बांधने की भी तो कोई व्यवस्था होनी चाहिए क्योंकि अभी तक अधिकांश हेल्प डेस्क के खिलाफ ही खबरें आ रही हैं।

बादल गरजे मगर बरसे नही ,मोदी भी टीवी पर उपदेश देकर निकल लिए

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर
ओएJamos cartoon झल्लेया!देखा हसाडे कर्मठ+समर्पित पी एम नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी जी की सक्रियता। कोरोना के विरुद्ध संघर्ष में वोंह फ्रंट पर लड़ाई लड़ रहे हैं।उन्होंने एक ही दिन में जहां कोरोना वैक्सीन निर्माताओं से वार्ता की तो रात्रि में देश के नाम सन्देश देकर सबका हौंसला बढाया।ओये है कोई इन जैसा नेता देश में?
झल्ला
Jhallaa Cartoonचतुर सेठ जी!रात दो बातें समान हुई।
रात को बादल गरजे और बिजली भी खूब चमकी मगर निकल ली सूखे सूखे।ऐसे ही आपके मोदी जी भी टीवी पर जोरदार उपदेश दे कर निकल गए बिना कुछ दिए

श्मशान कर्मकांड के भाव बढ़े,नेता और व्यवसाई! करो टेकओवर की तैयारी

झल्लीगल्लां
श्मशानकाआचार्यजी
Jamos cartoonओए झल्लेया!हसाडे मेहनत के कर्मकांड के लिए दान दक्षिणा पर भी कथित समाजसेवी नाक भों सिकोड़ने लग गए।अरे हमे कोई शादी व्याह में तो बुलाता नही अब ले दे के कोई मरने पर ही यहां आता है।हम पूर्ण निष्ठा से 13 दिन कर्मकांड कराते हैं और अपना परिवार पालते हैं।अब ये कोरोना हमारे कहने से तो आया नही जो इसे लेकर हमारी थोड़ी बहुत इनकम को कोसा जा रहा है।
झल्लाझल्ला
महाराज!थोड़ा हंस वी लया करो।श्मशान में कर्मकांड के भाव बढ़ने से धन्नासेठ और राजनेता भी आकर्षित होंगे और इस कमाऊ व्यवस्था को टेकओवर करने को जुगत लड़ाएंगे।इससे आप लोगों के भी अच्छे दिन आ जाएंगे

राष्ट्रहित मे शोधकार्यों के लिए हो जाये जवानी और अनुभव में प्रतिस्पर्धा

झल्लीगल्लां

Education Policy

Education Policy

चिंतितशिक्षाविद ओए झल्लेया!हसाडे मुल्क में शिक्षा और शोध पर जो भी खर्च हो रहा है उसका पर्याप्त लाभ देश को नही मिल पा रहा।डॉक्टर/इंजीनियर/ टेक्नोक्रेट्स आदि आदि अनुदान वाले शिक्षण संस्थाओं से महंगी महंगी डिग्रियां लेकर उनका उपयोग जनता के लाभ के लिए नही करते।शोधकर्ता तो (अधिकांश)राजनीति में आने को ही लालायित रहते हैं।होस्टल में जवानी खपाने वाली प्रतिभाओं का राजनीतिक शोषण भी हो रहा है।अब देख तो कोरोना नाशक वैक्सीन के लिए भी रशियाँन स्पुतनिक और अमेरिकन पफिज़र की तरफ देखना पढ़ रहा है।किसान डिग्रियां लेकर भी खेत बेच कर कंक्रीट के जंगल विकसित करने में जुटा है।जनलाभः वाले शोध कुछ व्यवसायियों की चारदीवारी से बाहर केवल उनकी तिजोरी भरने के लिए ही निकाले जाते हैं।
झल्लाभापा जी!राष्ट्रहित मे शोधकार्यों के लिए हो जाये जवानी और अनुभव में प्रतिस्पर्धा
शिक्षाआप जी की गल और उसमे लिपटी पीड़ा वाकई जायज है। लेकिन अनेकों नाम ऐसे हैं जो अपनी शिक्षा और व्यवसाय से पूर्णतया न्याय कर रहे है।डॉ हर्षवर्धन+डॉ महेशशर्मा+मनीषतिवारी+कपिल सिब्बल+रविशंकरप्रसाद जैसे अनेकों नाम गिनाए जा सकते हैं ।फिर भी चूंकि आपने जायज सवाल उठाया है सो झल्लेविचारानुसार सेवानिवृत होने वाले सरकारी/गैर सरकारी लोगों को भी शोध के लिए एक प्लेटफॉर्म दिया जाना चाहिए।हो जाये जवानी और अनुभव में प्रतिस्पर्धा

मोदी ने टीका उत्सव से दलितों के दिलों पर सीधे सीधे दस्तक दे ही दी

झल्लीगल्लां
भजपाईचेयरलीडर

टीकाउत्सव

टीकाउत्सव

ओए झल्लेया! मुबारकां!! ओए हसाडे धाकड़ प्रधानमंत्री नरेन्द्रमोदी जी ने कोरोना के खिलाफ जंग में आम जनता को जोड़े रखने के लिए टीका सप्ताह /उत्सव मनाने का आह्वाहन किया है।ओए जिस तरह लोगों ने लॉकडाउन +नाईटकर्फ्यू और ताली थाली आदि अभियानों में कंधे से कंधा मिला कर सहयोग दिया है।वैसे ही ज्योतिबा फूले और बाबा अम्बेडकर को समर्पित 11 से 14 अप्रैल के इस टीका सप्ताह उत्सव में भी लोग टीका लगवाने आएंगे।
झल्लाझल्ला
सेठ जी! आपके मोदी जी पक्के गुज्जु व्यापारी हैं।आपदा में लगातार अवसर पैदा किये जा रहे हैं।अब देखो! दलितों के मसीहाओ के नाम पर घोषित इस टीका उत्सव से महाराष्ट्र और दलितों के दिलों में सीधे सीधे दस्तक दे ही दी