Ad

Tag: R A L O D

पूर्व विधायक समर पाल सिंह की हसनपुर चूना भट्ठी के समीप सड़क दुर्घटना में मृत्यु हुई

[मेरठ] पूर्व विधायक[भाजपा नेता] समरपाल सिंह की सुबह सड़क हादसे में मौत हो गई। समरपाल सिंह हरित प्रदेश आंदोलन से जुड़ने के साथ ही रालोद सुप्रीमो और सिविल एविएशन मिनिस्टर चौधरी अजित सिंह के [कभी]बेहद करीबी भी थे ।
समरपाल सिंह सोमवार को मेरठ के आवास विकास कालोनी मंगलपांडे नगर स्थित अपने आवास से सुबह साढ़े तीन बजे अपनी स्कार्पियो गाड़ी से चालक उपेन्द्र जाखड़ + आशीष के साथ सिसौली स्थित अपने पोल्ट्री फार्म गए जहाँ से वापस लौटते समय प्रात: करीब पांच बजे हसनपुर चूना भट्ठी के पास उनकी गाड़ीसड़क के बीच में रोड़ी से भरे ट्रक में जा घुसी। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने समरपाल व उनके चालकों को गाड़ी की खिड़की काटकर निकाला, लेकिन तब तक समरपाल सिंह की मृत्यु हो चुकी थी।पूर्व विधायक समर पाल सिंह की मृत्यु पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ लक्ष्मी कान्त वाजपई
दोनों चालकों को मंगलम अस्तपाल में भर्ती कराया गया जहां उपेन्द्र की हालत गंभीर बताई जा रही है।पोस्ट मार्टम के पश्चात सूरजकुंड में अंतिम संस्कार किया जाएगा। समरपाल सिंह की केवल अब 12 साल की एक बेटी ही है।
समरपाल तीन बार रालोद से बरनावा (बागपत) के विधायक रह चुके हैं।

तीन सांसदों वाले रालोद को पाला बदलने से रोकने के लिए सुप्रीमो अजित सिंह को जेट+एतिहाद की सैर कराना जरुरी है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

एक कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया मुबारकां ओये देश में सबसे बड़े विदेशी निवेशक एतिहाद के लिए जेट एयरवेज के २४% शेयर्स खरीदने का रास्ता साफ़ हो गया है| ओये अब २०५७ करोड़ रुपयों की विदेशी मुद्रा का भंडार आ जाएगा| इकनोमिक अफेयर्स की कैबिनेट समिति [ Cabinet Committee on Economic Affairs (CCEA) ]की इस अप्रोवल से सिंगापोर +एयर एशिया वालों के लिए भी रास्ता साफ़ हो जाएगा| अमेरिकन डालर के मुकाबिले हसाड़े रुपये की कीमत सुधर जायेगी| सुब्रामनियम स्वामी+ दिनेश त्रिवेदी + जसवंत सिंह+गुरुदास गुप्ता जैसे धुरंधरों के ऐतराज धरे के धरे रह गए| ओये हमारे यहाँ देर हैं अंधेर नहीं है|

झल्ला

अरे मेरे चतुर सुजाण जी दरअसल रात घाट रही है इसीलिए खैरात बंट रही है |चुनावी मोड़ में आने से एक एक सीट की कीमत बड जाती है अब देख आप जी ने चौधरी अजित सिंह के किसी भी लाभकारी प्रपोजल को स्वीकार नहीं किया [१]जाट आरक्षण[२] हरित प्रदेश+[३]उत्तरप्रदेश मेंगवर्नर राज्य [४] मेरठ में है कोर्ट की बेंच जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को ठन्डे बसते से निकाला नहीं गया यहाँ तक कि जेट एतिहाद सौदे को भी रोक दिया गया ऐसे में तीन सांसदों वाले रालोद के सुप्रीमो अजित सिंह को पाला बदलने से रोकने के लिए जेट एतिहाद की सैर कराना जरुरी है|

रालोद के युवा सांसद जयन्त चौधरी ने शामली जनपद के हिंसा प्रभावित गांवों का दौरा किया और निर्दोष लोगों को बचाने का आश्वासन दिया

रालोद के युवा सांसद जयन्त चौधरी ने शामली जनपद के हिंसा प्रभावित गांवों का दौरा किया और निर्दोष लोगों को बचाने का आश्वासन दिया|
राष्ट्रीय लोकदल महासचिव +लोकसभा सांसद जयन्त चौधरी ने शामली जनपद के हिंसा प्रभावित लिसाड़+ लाख+ बाहबड़ी+ सिम्हालका + नाला गांवों का दौरा किया उन्होंने पीड़ितों के दुःख को साँझा किया और ढाढस बंधाया
सांसद जयन्त चौधरी ने हिंसा पर दुख जताते हुए कहा है कि रालोद इस संकट की घड़ी में दंगा पीडि़तों के साथ है। उन्होंने कहा कि बहुत से लोगों ने उनसे शिकायत की है कि दंगों में निर्दोष लोगों को फंसाया गया है। युवा सांसद ने प्रशासन की इस कार्रवाई की निन्दा की है। उन्होंने कहा है निर्दोष लोगों को बचाने के लिए रालोद कार्यकर्ता आगे आएंगे तथा इस मामले की निष्पक्ष जांच और लोगों को न्याय दिलाने के लिए सीबीआई जांच की आवश्यकता है।
नाला गांव में रालोद महासचिव दोनों समुदाय के लोगों से मिले तथा उनके बीच हुए शान्ति व सुलह के समझौते की सराहना की। उन्होंने कहा कि गांव से पलायन कर चुके लोगों को वापस लाने के लिए स्थानीय लोगों की पहल प्रशंसनीय है। उन्होंने गांव में शान्ति व सौहार्द स्थापित करके आपसी भाईचारे का संदेश दिया है।

उत्तरप्रदेश में जाट+मुस्लिम एकता की विरासत को बचाने के लिए रालोद दो अक्टूबर को शान्ति+सौहार्द स्थापित करने का संकल्प लेगा

उत्तर प्रदेश में जाट मुस्लिम एकता की विरासत को बचाने के लिए राष्ट्रीय लोक दल[रालोद ]दो अक्टूबर को प्रदेश में शान्ति व सौहार्द स्थापित करने का संकल्प लेगा|
रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री चौ. अजित सिंह के निर्देश पर रालोद के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता 02 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में महात्मा गांधी तथा लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा स्थल पर प्रार्थना सभा का आयोजन करेंगे और श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे | प्रदेश में शान्ति व सौहार्द स्थापित करने एवं गांधी जी, शास्त्री जी और चौ. चरण सिंह जी के आदर्शों पर चलने का संकल्प लिया जाएगा।
रालोद महासचिव एवं लोकसभा के युवा सांसद जयन्त चौधरी ने प्रदेश में अराजकता पर चिंता व्यक्त करते हुए स्थिति को सामान्य बनाने में सकारात्मक भूमिका अदा करने के लिए पार्टी को निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि सरकार की नाकामी और पक्षपातपूर्ण रवैये के कारण प्रदेश की जनता का विश्वास उठ चुका है। आज दंगा पीडि़त दोनों समुदाय के लोग न्याय की मांग कर रहे हैं। रालोद महासचिव ने मांग की है कि दंगों में निर्दोषों को न फंसाया जाए और पूरे प्रकरण की जांच सीबीआई द्वारा कराई जाये

भाजपा ने डॉ मन मोहन सिंह के दंगा ग्रस्त मुज्जफर नगर के दौरे को सेक्युलर टूरिज्म बताया

भारतीय जनता पार्टी[भाजपा] ने प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह के मुज्जफर नगर के दौरे को सेक्युलर टूरिज्म की संज्ञा देकर जहां उसका मजाक उड़ाया वहीं प्रदेश में दंगों की जमीन पर वोटों की फसल उगाने के लिए सपा और कांग्रेस में राजनीतिक नूरा कुश्ती बताया |भाजपा के प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने पार्टी कार्यालय में प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि डॉ मन मोहन सिंह +श्रीमती सोनिया गाँधी+राहुल गाँधी ने लगभग एक माह पश्चात दंगा ग्रस्त इलाकों का दौरा किया लेकिन उससे कुछ हासिल नहीं हुआ| यदि प्रधान मंत्री गंभीर होते मात्र दौरा करने के साथ ही उन्हें एस आई टी [SIT] न्यायिक जाँच करवानी चाहिए थी|
श्री नकवी ने कहा कि एक तरफ भाजपा के सांसद रवि शंकर प्रसाद +बसपा के नेताओं के अलावा[बिना नाम लिए] केंद्र में सिविल एविएशन मंत्री अजित सिंह तक को मुज्जफर नगर में घुसाने तक नहीं दिया गया लेकिन उसके पश्चात नाटकीय ढंग से मुख्य मंत्री अखिलेश यादव और फिर दूसरे दिन प्रधान मंत्री+कांग्रेस की अध्यक्षा श्री मति सोनिया गांधी+उपाध्यक्ष राहुल गाँधी को शासकीय सम्मान के साथ दंगा ग्रस्त इलाकों में घुमाया गया है उससे साफ़ जाहिर होता है कि यह केवल सेकुलरिज्म के नाम पर टूरिज्म है |दोनों दलों में नूरा कुश्ती ही हो रही है और प्रदेश में दंगों की जमीन पर वोटों की फसल उगाने के प्रयास हो रहे हैं|एक प्रश्न के उत्तर में श्री नकवी ने कहा कि उनके नेता नरेंदर मोदी का इस प्रकार के टूरिज्म का कोई कार्यक्रम नहीं है|

रालोद सांसद जयन्त चौधरी ने हिंसाग्रस्त मुजफ्फरनगर में तीन पीढ़ियों से चले आ रहे अपने वोट बैंक के साथ मिलने में दोबारा सफलता हासिल की

सांसद जयन्त चौधरी ने मुजफ्फर नगर में तीन पीढ़ियों से चले आ रहे अपने वोट बैंक के साथ मिलने में दोबारा सफलता हासिल की सांसद जयन्त चौधरी ने यूं पी के दंगों की सीबीआई जांच की मांग करते हुए न्याय न मिलने तक लड़ने का संकल्प दोहराया| गौरतलब है कि रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केन्द्रीय सिविल एविएशन मिनिस्टर चौ.अजित सिंह को मुजफ्फर नगर में गिरफ्तार करके लौटाया जा चुका है|| मुख्य मंत्री और प्रधान मंत्री के दौरों का एलान हो चूका है ऐसे में स्थानीय नेता की अपने ही छेत्र में अनुपस्थिति से रालोद की प्रतिष्ठा पर स्वाभाविक प्रश्न लग रहा था| जिसके उत्तर में स्थानीय नेता का अपने लोगों से मिलना जरुरी था|
उत्तर प्रदेश प्रशासन के साथ लुका छुप्पी के खेल में राष्ट्रीय लोकदल महासचिव +लोकसभा सांसद जयन्त चौधरी आज दूसरी बार प्रशासन को धत्ता बताते हुए चुपके से मुजफ्फरनगर पहुंचे और तीन पीढ़ियों से चले आ रहे अपने वोट बैंक के साथ मिलने में सफलता हासिल की | उन्होंने हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार वालों से बातचीत कर अपनी संवेदना व्यक्त की और लोगों से आग्रह किया कि वे मिलजुलकर रहें क्योंकि यही इस क्षेत्र की परंपरा रही है।
दंगों की सीबीआई जांच की मांग करते हुए जयन्त चौधरी ने राज्य सरकार से न्याय न मिलने तक लड़ने तथा अयोग्य, भ्रष्ट और निर्दयी सपा सरकार को राज्य की सत्ता से उखाड़ फेंकने का संकल्प लिया। उन्होंने कहा कि 7 सितम्बर तथा उसके बाद की घटनाओं में प्रशासन की भूमिका की जांच होनी चाहिए।
जयन्त चौधरी ने तड़के सुबह 5 बजे बिना किसी पार्टी पदाधिकारी को सूचित किए तथा बिना सुरक्षा के राज्य में प्रवेश किया तथा मुजफ्फरनगर में तीन गांवों रहमतपुर, बसेड़ा और बोखलहेड़ी का दौरा किया। वह सबसे पहले बसेड़ा गांव पहुंचे और बृजपाल सिंह राणा के परिवारीजनों से मिले एवं अपनी संवेदना व्यक्त की। बृजपाल सिंह महापंचायत से लौटते समय 7 सितम्बर 2013 को मारे गए थे। उनकी चार लड़कियां तथा एक लड़का है, तीन लड़कियों की शादी हो चुकी है तथा लड़का 12वीं में पढ़ रहा है। उसके बाद वह रहमतपुर पहुंचे और अजय के परिवारीजनों से मिले। अजय की 7 सितम्बर 2013 को जॉली गांव में हिंसा के दौरान मौत हुई थी।
उसके बाद जयन्त चौधरी बोखलहेड़ी गांव पहुंचे तथा मृतक सोहनवीर और शौकत के परिवारीजनों से मिले। बाद में मुजफ्फरनगर में पार्टी के सांसद संजय सिंह चौहान के निवास पर जयन्त चौधरी ने दोनों समुदायों के बुजुर्ग लोगों के साथ बैठक कर पार्टी अध्यक्ष चौ. अजित सिंह का संदेश सुनाया जिसमें उन्होंने कहा, “मैं तीन पीढ़ियों के इस रिश्ते को नफरत के माहौल से टूटने नहीं दूंगा।” बैठक में दोनों समुदाय के लोगों में शाही इमाम मौलाना जाकिर, मौलाना फुरकान, मौलाना जमालुद्दीन, कारी जकी, मौलाना जैलुद्दीन, कृष्णपाल राठी, सुधीर भारती, ठा. अरुण सिंह तथा अन्य लोग उपस्थित थे।
रालोद राष्ट्रीय महा सचिव जयन्त चौधरी ने कहा, “मैंने दूसरी बार प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया है। मैंने दोनों समुदायों के नेताओं तथा परिवारों से मुलाकात की है। लोग प्रशासन से दुखी तथा नाराज हैं। उत्तर प्रदेश सरकार लोगों के जीवन से खिलवाड़ करने के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार है। मैं सीबीआई जांच तथा जान-माल की हानि का उचित मुआवजा देने की मांग करता हूं।”
जयन्त ने शांति तथा सुलह के लिए अपने-अपने समुदायों को मजबूत संदेश देने के लिए गांव के बुजुर्गों की भूमिका पर जोर दिया। जयन्त चौधरी ने पार्टी के लोगों को शांति बहाल करने तथा सक्रिय रूप से गांवों का दौरा करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा, “जो लोग असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, मैं उनसे शांति बनाए रखने का आग्रह करता हूं तथा जो लोग अपने घर छोड़कर चले गए हैं, मैं उनको वापस लाने के लिए उनके गांवों में अनुकूल माहौल तैयार करने का कार्य करूंगा।”
रालोद ने दावा किया है कि उनके नेता का यह साधारण दौरा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के दौरे से अलग है जिन्होंने 27 अगस्त 2013 को कवाल में पहली घटना के बाद लगभग 20 दिन बाद प्रभावित जिले का दौरा किया है। मुजफ्फरनगर तथा शामली में कानून-व्यवस्था को बनाए रखने के बजाए प्रशासन मुख्यमंत्री के इस दौरे की सुरक्षा व्यवस्था में पूरा जोर दे रहा है।
दूसरी बार जयन्त क्षेत्र में घुसने में कामयाब रहे। इससे पहले 13 सितम्बर 2013 को उत्तर प्रदेश पुलिस के रोकने से पहले ही उन्होंने मेरठ जनपद के तीन गांवों मोर खुर्द, मोहम्मदपुर शिखस्त तथा निलोखा का दौरा किया था। गाजियाबाद में प्रवेश करने के प्रयास में सांसद जयन्त चौधरी को 9 सितम्बर 2013 को गिरफ्तार किया गया था। रालोद अध्यक्ष तथा केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री चौ. अजित सिंह को 9 सितम्बर 2013 को उत्तर प्रदेश में नहीं जाने दिया उसके बावजूद भी 12 सितम्बर को उन्हें गिरफ्तार करके छोड़ा गया था|

शांति के लिए चौ.अजित सिंह को गिरफ्तार किया गया जबकि रालोद अध्यक्ष अपने संसदीय क्षेत्र में सौहार्द स्थापित करने ही जा रहे थे

शांति के लिए चौ.अजित सिंह को गिरफ्तार किया गया जबकि रालोद अध्यक्ष अपने संसदीय क्षेत्र में सौहार्द स्थापित करने ही जा रहे थेराष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री चौ. अजित सिंह को आज उनके संसदीय क्षेत्र बागपत जाते समय गिरफ्तार कर लिया गया उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए चौ.अजित सिंह को गिरफ्तार किया गया है जबकि रालोद अध्यक्ष का कहना है कि वे अपने संसदीय क्षेत्र में लोगों से बातचीत करने तथा सौहार्द स्थापित करने ही जा रहे थे।
उत्तर प्रदेश प्रशासन के अधिकारियों ने धारा 144 का हवाला देते हुए रालोद अध्यक्ष तथा उनके समर्थकों को रोक लिया। चौ. अजित सिंह ने अधिकारियों को आश्वासन दिया कि वह अकेले ही क्षेत्र में जाएंगे लेकिन उसके बावजूद भी अधिकारियों ने उच्चाधिकारियों से बात करके उन्हें बागपत रोड पर ट्रोनिका सिटी के पास अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ गिरफ्तार कर लिया।
चौ. अजित सिंह ने कहा है कि मुजफ्फरनगर व आसपास के जिलों में हिंसा के लिए प्रदेश की सपा सरकार जिम्मेदार है। प्रदेश में कानून व्यवस्था चरमरा गई है। रालोद अध्यक्ष ने सपा सरकार को बर्खास्त करने तथा राष्ट्रपति शासन की मांग की है। वह अपने संसदीय क्षेत्र में हिंसा पीडि़तों से बातचीत करने जा रहे थे लेकिन प्रशासन ने उन्हें जाने नहीं दिया तथा गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने शासन-प्रशासन की निन्दा की है।
रालोद अध्यक्ष ने कहा है कि रालोद के सदस्य गांव-गांव जाकर लोगों से बात करके शान्ति बहाल कराने की पहल करेंगे तथा हिंसा के डर से जो लोग पलायन कर चुके हैं, उन्हें वापस लाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने लोगों से भाईचारे के साथ शान्ति बनाने की अपील की है।पुर्व में अजित सिंह के पुत्र सांसद और रालोद के राष्ट्रीय महा सचिव जयंत चौधरी को भी मुजफ्फर नहीं जाने दिया गया था|गौरतलब है कि मुजफ्फर नगर से भड़की हिंसा की तपिश अन्य जनपदों में भी महसूस की जा रही है जिसे लेकर प्रधान मंत्री डॉ मन मोहन सिंह भी चिंता व्यक्त कर चुके हैं |

रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सिविल एविएशन मिनिस्टर चौ0 अजित सिंह ने उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन माँगा

राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सिविल एविएशन मिनिस्टर चौ0 अजित सिंह ने उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन की मांग की है|उन्होंने प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से विफल होने एवं प्रदेश में फैले सांप्रदाियक दंगों को काबू करने में नाकाम रहने के कारण केन्द्रीय सरकार से मांग की है कि उत्तर प्रदेश में जल्द से जल्द राष्ट्रपति शासन लागू करे।प्रदेश में दंगों की सेंचुअरी पूरी होने पर यह मांग उठाई गई है|
चौधरी अजित सिंह ने आरोप लगाया है कि प्रदेश में समाज वादी पार्टी के सत्ता में आने के समय से उत्तर प्रदेश में सौ से भी अधिक सांप्रदायिक दंगे हो चुके हैं।
मुजफफरनगर में हाल ही में हुए दंगों ने प्रदेश सरकार की दुर्बल+ बेअसर और लापारवाही को उजागर किया है |
अखिलेश यादव सरकार पिछले दरवाजे से दंगों को भड़का रही है। सिथति इतनी खराब हो चुकी है कि एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को अपनी जान गंवाने के डर से क्षेत्र को छोड़ना पड़ा। प्रदेश में शांति स्थापित करने के लिए भारतीय सेना को बुलाना पड़ा है।
यह विडंबना है कि श्री अखिलेश यादव की सरकार ने सांप्रदायिक दंगों के पीडि़तों को दो तरह के मुआवजे दिए हैं जो कि एक समान होने चाहिए। निवर्तमान वी0एच0पी0 की यात्रा को रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने 8000 सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया है लेकिन प्रदेश में व्याप्त तनाव व हिंसा को रोकने के लिए आवश्यक सुरक्षा का अंदाजा लगाने में वह पूर्णत विफल रही। हिंसक दंगों को भड़काने वाले भाषण देने वाले राजनेताओं के विरूद्व कार्यवाही करने में प्रदेश सरकार नाकाम रही।
चौ0 अजित सिंह ने जनता से अपील की है कि वे अवांछनीय तत्वों द्वारा फैलायी जा रही अफवाहों से उत्तेजित न हों और सदियों पुराने चले आ रहे शांति और भार्इचारे को बनाए रखें।

रालोद सांसद जयन्त चौधरी ने शहीद हेमराज के गांव में विकास कार्य तेजी से कराने के लिए मुख्य मंत्री को रिमाइंडर भेजा

रालोद सांसद जयन्त चौधरी ने शहीद हेमराज के गांव में विकास कार्य तेजी से कराने के लिए मुख्य मंत्री को अनुस्मारक भेजा |
लांस नायक हेमराज जम्मू-कश्मीर में पुंछ के मेंढर इलाके में शहीद हुए थे |
राष्ट्रीय लोकदल[रालोद] महासचिव एवं मथुरा से लोकसभा सांसद जयन्त चौधरी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अनुस्मारक पत्र लिखकर शहीद हेमराज के गांव शेरनगर में विकास कार्य शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण कराने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री गांव के सम्पूर्ण विकास+ शहीद स्मारक+शहीद के नाम से मार्ग+ प्रवेश द्वार, पार्क+ हाईस्कूल+ परिजनों को नौकरी तथा गांव को लोहिया ग्राम योजना में शामिल करने की घोषणा कर चुके हैं लेकिन जो कार्य शुरू किए गए थे वे आधे-अधूरे छोड़ दिए गए हैं। गांव को लोहिया ग्राम का दर्जा दिया गया था लेकिन उन मानकों पर विकास कार्य नहीं हुए।
रालोद सांसद ने इससे पूर्व भी 14 जनवरी 2013 को प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मथुरा जनपद के गांव शेरनगर में शहीद हेमराज की स्मृति में डिग्री कॉलेज, चिकित्सालय, पशु चिकित्सालय तथा छाता (राष्ट्रीय राजमार्ग 2) से वाया पैगांव-विशम्भरा से गांव शेरनगर तक सड़क निर्माण कराने की मांग की थी।
श्री जयन्त चौधरी ने कहा है कि शेरनगर पिछड़ा गांव है। यह क्षेत्र शिक्षा, स्वास्थ्य एवं सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए क्षेत्र के लोगों को 18 किमी दूर कोसीकलां जाना पड़ता है। शेरनगर निवासी लांस नायक हेमराज 08 जनवरी 2013 को जम्मू-कश्मीर में पुंछ के मेंढर इलाके में शहीद हुए थे। उन्होंने कहा है कि ये कार्य साहसी अमर शहीद हेमराज की स्मृति में अर्पित हों तो शहीद को सम्मान, परिवार एवं क्षेत्र को शांति और देशभक्त नौजवानों को प्रेरणा मिलेगी।

रालोद ने ८४ कौसी प्रक्रिमा के आयोजन को मैच फिक्सिंग बताते हुए सपा सरकार से श्वेत पत्र की मांग की

[लखनऊ ]राष्ट्रीय लोक दल[रालोद] ने उत्तर प्रदेश सरकार पर हमला जारी रखते हुए सपा सरकार से श्वेत पत्र की मांग की है| ८४ कौसी प्रक्रिमा के आयोजन को मैच फिक्सिंग की संज्ञा देते हुए टैक्स पेयर्स का करोड़ों रूपया बरबाद करने का आरोप लगाया गया है|
रालोद के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान ने प्रदेश सरकार और विहिप के आयोजन को मैच फिक्सिंग की संज्ञा करार देते हुए कहा कि यदि प्रदेश सरकार और विहिप की मिलीभगत न होती तो अशोक सिंघल जी को चौ. चरण सिंह अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रोकने के बाद उनको हवाई अड्डा से बाहर लाकर अभिवादन करवाने तथा उसकी विडियों रिकार्डिंग प्रसारित करने की क्या आवश्यकता थी।
उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने करोड़ों रूपये खर्च करके अयोध्या को छावनी बना दिया फिर भी प्रवीण भाई तोगडि़या का सरयू घाट तक पहुँच जाना भी मैच फिक्सिंग को ही साबित करता है।
श्री चौहान ने मीडिया+ पूरे प्रदेश विशेषकर फैजाबाद के आसपास की जनता को धन्यवाद दिया क्योंकि मीडिया तथा जनता की जागरूकता के कारण विहिप व प्रदेश सरकार के नाटक का भण्डाफोड़ हो गया और धार्मिक उन्माद फैलाने का मंसूबा धरा का धरा रह गया।
श्री चौहान ने आगे बताया कि सुरक्षा व्यवस्था तथा अस्थाई जेलों के निर्माण के नाम पर जनता का करोड़ों रूपया बरबाद करने पर सरकार श्वेत पत्र जारी करे तथा मार्ग अवरूद्ध करने के कारण प्रदेश की जनता को हुई असुविधा के लिए प्रदेश सरकार माफी मांगे।
उन्होंने राष्ट्र भक्त सन्तों व शंकराचार्य के द्वारा विहिप की परिक्रमा को वैदिक रीति रिवाजों के विपरीत करार करने का स्वागत किया तथा कहा कि चतुर्मास में पशु-पशी भी अपना घर नहीं छोड़ना चाहते ऐसे में यह आयोजन पूरी तरह से राजनैतिक लाभ लेने के लिये सपा व विहिप की नूरा कुश्ती थी जिसको प्रदेश की जनता ने नकार दिया।
प्रदेश अध्यक्ष ने आशंका व्यक्त की कि 2014 का चुनाव नजदीक देखकर प्रदेश सरकार साम्प्रदायिकता फैलाने वाले तत्वों के साथ मिलकर पुनः कोई बड़ा षड़यन्त्र रच सकती है इसलिए प्रदेश की जनता को बहुत सावधान रहने की जरूरत है।