Ad

Tag: AkhileshYadav

Akhilesh Yadav May Also Face CBI’s Music On illegal Mining

[New Delhi]Akhilesh Yadav May Also Face CBI’s Music On illegal Mining
Former Uttar Pradesh chief minister Akhilesh Yadav may face a probe by the CBI in an illegal mining case in the state, according to the agency FIR made public Saturday, the day arch rivals SP and BSP indicated their intent to join hands to counter the ruling BJP in 2019 Lok Sabha polls.
The CBI carried out searches at 14 locations on Saturday in connection with its FIR against 11 persons including IAS officer B Chandrakala, Samajwadi Party MLC Ramesh Kumar Mishra and Sanjay Dixit (who unsuccessfully contested the 2017 assembly election on a BSP ticket) to probe alleged illegal mining of minor minerals in Hamirpur district during 2012-16.
Minor minerals are like sand, gravels etc.
Chandrakala, who is on study leave now a days, is one the most talked about officers on social media because of her purported anti-corruption drive videos on various platforms.

योगी ने शुक्राने के रूप में माया का बँगला उसके धुर्र विरोधी शिवपाल को दिया

[लखनऊ ,यूपी]योगी ने शुक्राने के रूप में माया का बँगला उसके धुर्र विरोधी शिव पाल को दिया| कोर्ट के आदेशानुसार मायावती से खाली कराये गए आलिशान बंगले को अब सपा के असंतुष्ट नेता शिव पाल यादव को एलॉट किया गया है | शिव पाल यादव पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव के चा चा है और मुलायम सिंह यादव के भाई हैं|इन्होने अपने भतीजे के महागठबंधन से अलग अपनी एक पार्टी बनाई है और यूपी में स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ने का एलान किया हैं |राजनीती के पंडितों के अनुसार इस एक कदम से प्रदेश में भाजपा को सहारा मिलने का रास्ता साफ़ हुआ है

सपा अब साइकिल के बजाय भगवान विष्णु के गरुड़ सवारी करेगी

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

सपाई चीयर लीडर

औए झल्लेया! ये भाजपाई तो ओनली षड्यंत्र रचने में ही माहिर हैं असली विकास तो हम कर रहे हैं|ध्यान से सुनो ,हसाड़े अखिलेश यादव जी ने फर्मा दिया है के उत्तर प्रदेश में भगवान विष्णु के नाम पर एक विशाल नगर विकसित किया जाएगा और अपने २००० एकड़ के बीहड़ में कम्बोडिया की तर्ज पर भव्य मंदिर बनाया जाएगा
Jamos cartoons

झल्ला

ो मेरे चतुर पहलवान जी ! आ गए ना मंदिर की शरण में |
दावा कर रहे हो विकास का लेकिन साइकिल छोड़ कर गरुड़ पर सवार होने के लिए बनवाओगे एक और मंदिर
अरे बाबा भगवान विष्णु भी तो अयोध्या वाले भगवान राम के ही अवतार हैं

अखिलेश जी !२०१९ में छीका टूट जाएगा???

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

समाजवादी चीयर लीडर

औए झल्लेया ! हसाड़े अध्यक्ष अखिलेश यादव जी ने मोदी के चेलेंज को स्वीकार करते हुए कह दिया है के अब २०१९ में “एक राष्ट्र एक चुनाव” की निति का पालन करते हुए उत्तर प्रदेश में भी चुनाव करवा लें

झल्ला

ठीक ही तो है क्या पता २०१९ में छीका टूट ही जाये |पेड़ से टूट कर आम झोली में गिर ही जाये |योगी का योग भंग हो जाये

अखिलेश यादव ने ईवीएम के बजाय बैलेट से चुनाव कराये जाने की मांग की

[लखनऊ,यूपी ] अखिलेश यादव ने बैलेट से चुनाव कराये जाने की मांग की |उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने उपचुनावों ईवीएम मशीनों में आई खराबी को लेकर सरकार पर जम कर प्रहार किये और कैराना+नूरपुर में पुनः मतदान कराये जानेकी भी मांग उठाई|उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में कहा के जिन छेत्रों में उनके वोट थे उन्ही छेत्रों में मशीनों में खराबी आई है यह अपने आप में चिंताजनक है और संदेहास्पद है |उन्होंने इसके पीछे छुपी रणनीति की भी संभावना व्यक्त की |अखिलेश यादव ने अपने पीछे स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह की फोटो लगा कर प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया और विकास के इस दौर में साईकिल की सवारी की वकालत भी की|
फाइल फोटो

सपा ने अब गोरखपुर उपचुनाव में “राग ईवीएम” शुरू किया

[लखनऊ ,यूपी ] सपा ने अब गोरखपुर उपचुनाव में “राग ईवीएम” शुरू किया
समाजवादी पार्टी के वर्तमान सुप्रीमो और निवर्तमान सीएम् अखिलेश यादव ने वर्तमान सी एम् के गृह छेत्र गोरखपुर में ईवीएम की देखरेख पर सवाल उठाये हैं | गोरखपुर में उपचुनाव होने जा रहे हैं | उम्मीद की जा रही है अब सपा आरएल डी +आर जे डी +एनसीपी+सीपीआई +सीपीआई (म )+अपना दल (कृष्णा पटेल फैक्शन)+पीस पार्टी+आप अदि के सात मिल कर भाजपा के घेरने का प्लान बना रही है |
उन्होंने गोरखपुर महोत्सव की उपयोगिता पर भी सवाल उठाये

शिवपाल चुनावों के बाद सपाई साईकिल का एक पहिया अलग करेंगे,बनाएंगे अपनी पार्टी!

shiv-pal-yadav-in-mawana[इटावा,यूपी]शिवपाल सपाई साईकिल का एक पहिया चुनावों के बाद अलग करेंगे,बनाएंगे अपनी पार्टी!
शिवपाल यादव को समाजवादी पार्टी[सपा] की रीढ़ कहा जाता रहा है लेकिन वर्तमान में सपा और कांग्रेस गठबंधन ने हाशिये पर पहुंच दिया हैं
सम्भवत इसी कुंठा के चलते शिवपाल सिंह यादव आगामी 11 मार्च के बाद अपनी नयी पार्टी बना सकते हैं
शिवपाल ने जसवन्तनगर विधानसभा सीट से सपा प्रत्याशी के रूप में नामांकन दाखिल करने के बाद नुमाइश पंडाल में आयोजित जनसभा में एलान किया कि वह 11 मार्च के बाद नयी पार्टी बनाएंगे। इसी तारीख को विधानसभा चुनाव के नतीजे भी आएंगे।
उन्होंने सपा अध्यक्ष मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर तंज करते हुए कहा आप [अखिलेश] देख लेना कि 11 मार्च के बाद आप सरकार बना लो।
हम 11 मार्च के बाद पार्टी बनाएंगे। हम पांच साल से मेहनत कर रहे हैं, आखिर हम कहां जाएं।’’ सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि वह सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा निकाले गये या बागी हुए उन समाजवादी नेताओं के पक्ष में प्रचार करेंगे, जो चुनाव मैदान में हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग किन्हीं कारणवश सपा से अलग हो गये हैं, उन्हें अपनी नयी पार्टी में शामिल करेंगे।
सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव पहले ही सपा-कांग्रेस गठबंधन का विरोध कर चुके हैं और सपा नेताओं से कांग्रेस की सीटों पर चुनाव लड़ने का आहवान कर चुके हैं \अब शिवपाल का नया एलान अखिलेश के लिये चुनावी गणित के लिहाज से मुश्किलें खड़ी कर सकता है।
शिवपाल ने कहा ‘‘मैं हमेशा नेताजी के साथ रहूंगा लेकिन उनका अपमान बिल्कुल नहीं सहूंगा। मुझे अपने अच्छे कामों की सजा मिली है। जिन लोगों ने गड़बड़ियां की उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई।’’ दूसरी ओर, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हाथरस में अपनी चुनावी रैली में शिवपाल की तरफ इशारा करते हुए कहा कि अच्छा हुआ कि ‘साइकिल’ उनके हाथ में आ गयी है। जो भी लोग भितरघात कर रहे थे, वे साथ नहीं रह सकते।

मुलायमसिंह यादव घर में नजर बंद :असन्तुष्ट लोक दल का आरोप

[नई दिल्ली]मुलायम सिंह यादव घर में नजर बंद हैं :असन्तुष्ट लोक दल
लोक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह ने सपा सुप्रीमो की सुरक्षा की मांग करते हुए यह आरोप लगाया के मुलायम सिंह को उनके घर में नजर बंद करके रखा जा रहा है|सुनील सिंह के अनुसार यूपी असेंबली के लिए होने जा रहे चुनावों में सपा और लोक दल में समझौता हो चूका था लेकिन मुख्य मंत्री अखिलेश यादव नेअपने पिता मुलायम सिंह द्वारा किये गए इस समझौते को रद्द कर दिया|स्वर्गीय जयललिता और कांशी राम की तरह ही मुलायम सिंह से भी उनके घर में किसी को मिलने तक नहीं दिया जा रहा|इस विषय में लोक दल द्वारा गृह मंत्री राज नाथ सिंह को भी पत्र लिखा गया है

अखिलेश ने सपा अध्यक्ष पद के पश्चात चुनाव चिन्ह ‘साइकिल’ भी कब्जाया

[लखनयू,दिल्ली]अखिलेश ने सपा अध्यक्ष पद के पश्चात चुनाव चिन्ह ‘साइकिल’ भी कब्जाया |कार्यालय के बाहर अध्यक्ष का नाम पट्ट भी बदल गया
उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी पर वर्चस्व और उसके चुनाव चिन्ह पर कब्जे को लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके पिता मुलायम सिंह यादव खेमे के बीच चुनाव आयोग में चल रही दस्तावेजी जंग अखिलेश के पक्ष में गयी है और चुनाव आयोग ने उन्हें पार्टी का नाम तथा उसके चुनाव चिन्ह ‘साइकिल’ पर अधिकार दे दिया है।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी नसीम जैदी के दस्तखत से आज शाम जारी आदेश में आयोग ने कहा ‘‘अखिलेश के नेतृत्व वाला खेमा ही समाजवादी पार्टी है और उसे ही पार्टी का नाम और चुनाव चिन्ह साइकिल पाने का हक है।’’ आदेश पर जैदी के अलावा दो अन्य चुनाव आयुक्तों के भी हस्ताक्षर हैं।
इसके साथ पार्टी के अध्यक्ष पद को लेकर अखिलेश और उनके पिता मुलायम सिंह यादव के बीच विगत 15 दिन से चल रहा विवाद समाप्त हो गया और आयोग ने अखिलेश को ही सपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष मान लिया है।
आयोग के फैसले से निहाल मुख्यमंत्री अखिलेश के साथ खड़े रहे उनके चाचा रामगोपाल यादव ने कहा, ‘‘चुनाव आयोग ने सही निर्णय लिया इसलिए कि दूसरे खेमे :मुलायम सिंह यादव खेमा: के पास चुनाव चिन्ह पाने के लिए जरूरी दस्तावेजी ताकत नहीं थी।’’ उन्होंने कहा कि आयोग के फैसले से मुख्यमंत्री अखिलेश बहुत खुश है। कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावना पर उन्होंने कहा ‘‘इस संबंध में जो भी निर्णय होगा पार्टी अध्यक्ष :अखिलेश: ही करेंगे। मगर मुझे गठबंधन की संभावना लगती है।अदालत में यह केस कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल लड़ रहे थे
फाइल फोटो

सपा की ऑफीशियल वेबसाइट पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अभी भी अखिलेश ही हैं

[लखनऊ,यूपी]सपा की ऑफीशियल वेबसाइट पर राष्ट्रीय अध्यक्ष अभी भी अखिलेश ही हैं
समाजवादी पार्टी की ऑफीशियल वेबसाइट पर आज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में मुख्य मंत्री अखिलेश यादव और नरेश उत्तम पटेल को प्रदेशाध्यक्ष बताया गया है|यदि इसमें कोई त्रुटि नहीं है तो पार्टी अभी भी समझौते से दूर ही है |यद्यपि मुलायम सिंह यादव अखिलेश को अगला मुख्य मंत्री बता कर समझौते के संकेत दे चुके हैं |मुलायम सिंह यादव द्वारा स्वयम को ही राष्ट्रीय अध्यक्ष बताया जा रहा है |इसके आलावा चुनाव चिन्ह साइकिल के लिए पिता और पुत्र द्वारा चुनाव आयोग में अपील की गई है
वेबसाइट पर अपलोड की गई सूचना के अनुसार राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा उत्तर प्रदेश विधान परिषद के स्नातक तथा शिक्षक क्षेत्रों के निम्न प्रत्याशी घोषित किये गये है।
१]कानपुर-उन्नाव शिक्षक क्षेत्र, श्री रामवीर सिंह यादव, डा0 राम मनोहर लोहिया इण्टर कालेज पीनी रोड, शुक्लागंज, उन्नाव।
२]इलाहाबाद-झाॅसी शिक्षक क्षेत्र, श्री अशोक सिंह राठौर, 258 नया पटेल नगर जेल रोड उरई, जालौन।
३]बरेली-मुरादाबाद स्नातक क्षेत्र, कुमारी रेनू मिश्रा, रौसर कोठी, दनियापुर शाहजहाॅपुर।
.एक अन्य सूचना के अनुसार समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल आज टीलेवाली मस्जिद के इमाम मौलाना फजलुर्रहमान वायसी के सुपुर्द-ए-खाक के मौके पर मौजूद रहे। मौलाना को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होने कहा कि वे हिंदू-मुस्लिम और शिया-सुन्नी के बीच सेतु का काम करते थे। वे शांति और भाई चारा के लिए बराबर प्रयासशील रहे। ऐसे समय जब साम्प्रदायिक और जातीय ताकतें प्रदेश के वातावरण को बिगाड़ने में फिर सक्रिय हो उठी हैं मौलाना का निधन समाज और प्रदेश की अपूरणीय क्षति है।
ये दोनों सूचनाएं (नरेश उत्तम पटेल)प्रदेश अध्यक्ष द्वारा अपलोड की गई हैं