Ad

Tag: IndiaSatire

रेणुका को”कास्टिंग काउच”तो खुर्शीद को कांग्रेस पर मुस्लिमो का खून सालने लगा

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

कांग्रेसी चिंतक

औए झल्लेया ये हसाड़े सलमान खुर्शीद और रेणुका चौधरी को कौन सा कीड़ा काट गया ? देख तो खुर्शीद साहिब को कांग्रेस ही मुस्लिमों की कातिल नजर आ रही है तो रेणुका को अपनी तरक्की में भी कास्टिंग काउच दिखाई देने लग गया है|औए इनदोनो ने तो कांग्रेस के मिटटी पलीद कर दी

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान !मत हो इतना हैरान+परेशां और हलकान| रेणुका को”कास्टिंग काउच”तो खुर्शीद को कांग्रेस पर मुस्लिमो का खून सालने लगा है ये कोई नए बात नहीं है |यकीन मान कांग्रेस के प्रिय दिग्विजय सिंह और मणिशंकर अय्यर का स्थान लेने के लिए विकल्प तैयार होने लग गए हैं |और शुरू शुरूमे तो सभी बन्दूक की नाल अपनी तरफ ही करते हैं धीरे धीरे निशाना साधने में परिपक्व हो जाते है

मोदी रुपी”बिक्रम”बोला तो राहुल रुपी “बैताल” चला

jamos

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

उत्तेजित कांग्रेसी

आये झल्लेया ये क्या हो रहा है?ये नरेंद्र भाई दामोदर दास नाम का झोलाछाप “मोदी” अपनी रैलियों में तो बोल ही रहा है ,अब पार्लियामेंट में भी बोलने की जिद्द कर रहा है |ये प्राणी संसद में बोलने को इतना उतावला क्यूँ है??

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी!नरेंद्र भाई दामोदर दास मोदी ने बिक्रम और बैताल की कथा कण्ठस्थ की हुई है| मोदी रुपी बिक्रम बोला तो राहुल रुपी बैताल चला|४४ में से होजाएंगे ४ गायब |
लगता हे आपलोगों ने भी इस रहस्य को जानलिया है और इसीलिए देश नोटबंदी को झेल रहा है और आपलोग झोलाछाप मोदी को नोटबंदी पर भी संसद में बोलने नहीं दे रहे हो और खुद राहुल को “रिज्जू “के खिलाफ बोलने के लिए उकसा रहे हो

अंतर्राष्ट्रीय वायुसेवा को २० विमानों की शर्त रहेगी लागू:इसके पीछे भी है कोई कमाई ?

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

वो मारा पापड़ वाले को!ओऐ झल्लेया हमजी की सरकर ने जो कहा था वह करके दिखा दिया |ओऐ अब विदेह यात्रा के लिए केवल इंडिगो या जेट एयरवेज जैसों का मुंह नहीं देखना पडेगा |अब वह पुराने गले ५/२० वाले नियम को बदल दिया गया है |अब तो एयरलाइन्स को अंतर्राष्ट्रीय सेवा के लिए पांच साल तक इंतजार नहीं करना पडेगा |

झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी! अंतर्राष्ट्रीय सेवा के लिए अभी भी २० विमानों की शर्त थोपी हुई है |अब सारे एयरलाइन्स वाले गो एयर जैसे नहीं होते|गो एयर ने आपकी बख्शीस के भरोसे रहने के बजाय २० प्लेन खरीद लिए|गो एयर के इस कदम से इंडिगो शेयर्स के भाव क्या गिरे आप ने उसे सहारा देते हुए २० विमानों वाली शर्त थोपी रहने दी|प्रॉफिट मेकिंग एयरलाइन्स के शेयर इसीबात पर सवा पर्सेंट बढ़ गए |क्या इसके पीछे भी है कोई कमाई ???

कांग्रेसी पर्यावरणविदों को तो रमजान में ताज के नाम पर बैठे बैठाए जॉब मिल गई

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

भाजपाई चेयर लीडर

ओ झल्लेया मुबारकां! ओये हसाडे प्रधान मंत्री ने इस्लामिक देश क़तर में भी बहा दी विकास की गंगा|ओये अब क़तर जैसे अमीर देश के अल फैसल समूह और लीला समूह मिल कर भारत के ताज महल के समीप ५०० करोड़ रुपयों का नया विश्वस्तरीय होटल बनाएंगे|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सेठ जी बेशक इससे मोदी विरोधियों के पर कतरे जायेंगे और तो विदेशी निवेश भारत आयेगा लेकिन कांग्रेसी पर्यावरणविदों को तो रमजान में बैठे बैठाए एक जॉब मिल गई अब ताज की सुरक्षा के नाम पर उड़ेगा जुमला “आह! ताज!!”

राहुल गांधी देर से ही सही मगर लैंड और फ़ूड की दुरुस्त लाइन पर आ ही गए

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया इस सरकार में तो हसाडे नाल तो बढ़ा ही जुल्म कमाया जा रहा है |पहले ये भाजपाई कहते थे कि बदलाव कि राजनीती करेंगे मगर असलियत में इन्होने नफरत कि राजनीती शुरू कर दी यहाँ तक कि हसाडे सोणे उपाध्यक्ष राहुल गांधी जी की अमेठी में प्रस्तावित फ़ूड पार्क को भी केंसिल करा दिया गया है |आज जब राहुल गांधी जी ने लोक सभा में इसकी शिकायत की तो गृह मंत्री राज नाथ सिंह ने यह कह कर टाल दिया कि ठीक है देखेंगे

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान देर से ही सही
मगर आपजी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दुरुस्त लाइन पर आ ही गए |इन्हें लैंड और फ़ूड कि अहमियत पता चल ही गई

कपिल सिब्बल की डी यूं में चार साल के ग्रेजुएशन की घरैड को अब बहुरानी स्मृति ईरानी भुगत रही हैं

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये नई सरकार तो उच्च शिक्षा का भी बेड़ा गर्क करने पर तुल गई है |मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने यूं जी सी को [स्वायत ] दिल्ली यूनिवर्सिटी से भिड़ा दिया है |
केंद्र सरकार के अधीन यूं जी सी कह रही है कि ग्रेजुएट कोर्स चार साल के बजाय तीन साल का करो|ये तो डी यूं के लिए “करो तो भी मरो और न करो तो भी मरो” वाली स्थिति हो गई| डी यूं अगर यूं जी सी का पालन करके तीन साल का ग्रेजुएशन कोर्स करती है तो पुराने मंत्री कपिल सिब्बल से बुरा बनती है और अगर पालन नहीं करती तो मिलने वाले अनुदान+और डिग्री मान्यता दोनों हाथ से निकल सकते हैं|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी पुरानी कहावत है कि “बिच्छू के काटे का मंतर आता नहीं चले हैं सांप के बिल में हाथ देने” अरे अपने देश में चालू तीन वर्षीय शिक्षा नीति का सही तरह से पालन कराने के बजाय विदेशी तर्ज पर चार साल का ग्रेजुएशन कोर्स करा डाला और चौथे साल के कोर्स को तैयार करने की कुछ तैयारी भी की नहीं |इसीलिए छात्रों ने भी बगावत की हुई है | आप जी की सरकार तो एक चतुर सास की तरह घरैड डाल कर निकल गई और ५०००० से ज्यादा छात्रों को एक साल के अप्रभावी कोर्स के लिए एक्स्ट्रा एक साल गवाना पड़ रहा है और खर्चा भुगतना पड़ रहा है |बेचारी नई नई बहुरानी स्मृति ईरानी को इस तीन और चार साल के गणित के सवाल हल करने के लिए माथा पच्ची करनी पड़ेगी | वैसे झल्ले विचारानुसार यह पहली बार नहीं हुआ है यूं पी टी यूं ने दशक पररव तीन साल का होटल मैनेजमेंट डिप्लोमा शुरू कराया था उस समय कहा गया था कि यह डिप्लोमा ग्रेजुएशन के समान है लेकिन कोर्स पूरा होते ही सभी कुछ बदल गया अब वह तीन साल का डिप्लोमा केवल डिप्लोमा ही है और सैकड़ों छात्र अपनी किस्मत को रो रहे हैं |

फैसले से 64,000 छात्र प्रभावित होंगे।