Ad

Tag: Political Jokes

हरियाणवी स्वस्थ मंत्री अनिल विज, कहीं न कहीं पिटे हैं या फिर जले हैं इसीलिए तो डरे हुए हैं

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

हरियाणवी हेल्थ मिनिस्ट्री का चिंतित बाबू

ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है ?ओये हसाडे सोणे ते स्वस्थ मंत्री अनिल विज साहब के पीछे सी आई डी लगा दी गई है ओये मनोहर लाल खट्टर और अनिल विज के आपसी झगड़े में अब हमारे ऊपर भी नजर रखी जाने लगी है लेकिन यारा हसाडे विज साहब ने भी कच्ची गोलियां नही खेली उन्होंने इस सरकारी जासूस को झट रंगे हाथों पकड़ ही लिया

झल्ला

ओ मेरे भोले पहलवान जी पुरानी कहावतें हैं जिनके अनुसार व्यक्ति एक बार पीटने के बाद दो बार चौकन्ना हो जाता है+जला हुआ बालक आग से डरने लगता है +दूध का जला भी छाछ फूंक फूंक कर पीता है|अब आपजी के मंत्री जी ने इस जासूस को पकड़ा है तो इससे एक बात स्पष्ट हो जाती है कि अनिल विज कहीं न कहीं पिटे हैं+जले हैं सो डरे हुए हैं

अरविन्द केजरीवाल अपने नाम से किसी को मुफ्त में पब्लिसिटी भी हथियाने नहीं देंगे

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

आप पार्टी चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे सोणे अरविन्द केजरीवाल साहब ने भारी बहुमत से सीएम बन कर भी घमंड नहीं दिखाया उलटे उन्होंने दिल्ली में लग रहे बधाई के पोस्टर्स +बैनर्स+होर्डिंग्स पर भी एतराज जता दिया है ओये ऐवेंई नही हम काम करके दिखाएंगे

झल्ला

ओ मेरे चतुर भापा जी
अरविन्द केजरीवाल अपने नाम से किसी को मुफ्त में पब्लिसिटी भी हथियाने नहीं देंगे
बकौल अरविन्द केजरीवाल साहब वोह खुद काईयाँ बनिया हैं बिना हिसाब किताब किये वोह कोई काम नहीं करते ऐसे में बिना गुणाभाग किये मुफ्त में तो अपने नाम से किसी को पब्लिसिटी भी नहीं लेने देंगे

डॉ हरि सिंह ढिल्लों ने भी”रालोदाई”चौधरियों के सूखे”नलके”को खींचते रहने से खींचे हाथ

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

सपाई चीयर लीडर

ओये झल्लेया देखा हसाडे सर में दर्द करने वाले एक एक कर के कमजोर होते जा रहे हैं ओये पूर्व विधान परिषद सदस्य डॉ हरि सिंह ढिल्लों ने भी अपने खासुलखास राष्ट्रीय लोक दल को ढील दे दी है |ओये अमरोहा से पूर्व सासंद देवेन्द्र नागपाल के बाद डॉ. ढिल्लो ने भी राष्ट्रीय लोकदल से इस्तीफा दे दिया।ओये अब तो मानता है न कि ये कथित राष्ट्रीय रालोद ओनली बाप +बेटे की पार्टी बन कर रह गई है

झल्ला

ओ मेरे भोले पहलवान जी रालोदाई “नलके” से पानी निकलना कब का बंद हो चुका है |
अच्छे खासे रसूख वाले अमरोहिया डॉ ढिल्लो को बरेली-मुरादाबाद में शिक्षक निर्वाचन छेत्र के विधान परिषद के चुनाव में भाजपा के जयपाल सिंह के मुकाबिले प्यासा रहना पड़ गया|
ऐसे में बाकी के एमएलसी सीट के लिए चौधरियों के सूखे नलके को खींचते रहना तो २५ साल की डाक्टरी का भी अपमान होगा

मोदी भापे पीओके पर पाकिस्तान काबिज है,बैनामा वाला बेकार में ही मदद चिल्ला रहा है

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

भाजपाई चीयर लीडर

ओयेझल्लेया देखा हसाडे सोणे पी एम नरेंद्र भाई दामोदर मोदी की दरियादिली ओये कश्मीर के मुख्य मंत्री ओमर अब्दुल्लाह की लाख गालियों के बावजूद मोदी ने कुदरती कहर से राहत के लिए केंद्र के खजाने खोल दिए हैं| मानवीय संवेदनाएं दिखाते हुए पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में हुए नुक्सान से मर्माहत मोदी ने वहां भी सहायता की पेशकश कर दी है

झल्ला

ओ मेरे सेठ जी पीओके पर पाकिस्तान काबिज है,बैनामा वाला बेकार में ही मदद चिल्ला रहा है| नरेंद्र भाई को मंजीत[मन+जीत]+दिलजीत[दिल+जीत] बनने के लिए एस ेप्रयास सहायता कर सकते हैं लेकिन मोदी भापे को यह नहीं भूलना चाहिए कि पी ओ के पर नाम के अनुरूप पाकिस्तान का कब्जा हैऔर कब्जे के आगे बैनामा वाले की कोशिशें धरी की धरी रह जातीं है |

अजय माकन जी कुछ किया ही नहीं तो अपनी क्लीन शेव दाढ़ी में तिनका क्यूँ टटोलते हो?

झल्ले दी झल्लियां गल्लाँ

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये मोदी सरकार ने ये क्या कंजरखाना मचा रखा है |पी एम ओ+ केंद्रीय गृह मंत्री+भाजपा अध्यक्ष के साथ जे डीयूं और एन सी पी आदि आदि भी ठाकुर राजनाथ सिंह का बचाव करने में दिन रात एक किये हुए हैं+खुद ठाकुर साहब भी आरोप फर्स्ट साइट साबित होने पर राजनीती छोड़ने की बात करने लगे हैं|यारा आरोप क्या हैं ये कोई नहीं बता रहा ओये ये कहीं आपसी+अंदरूनी+असहजता का परिणाम तो नहीं है | हसाडे महासचिव अजय माकन जी ने भी ट्वीट करके पुछा है कि हसाड़ी कांग्रेस पार्टी सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी हैं जब हमने कोई आरोप नहीं लगाया तो ये आरोप क्या हैं? और ये किसने लगाये हैं ?

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी जब आपजीके अजय माकन जी ने कुछ किया ही नहीं तो अपनी क्लीन शेव दाढ़ी में तिनका क्यूँ टटोलते हैं ?,चतुर सुजाण जी ज़रा सुनो खोल के दोनों काण जी |छाज तो बोले ही बोले छन्नी भी बोले जिसमे हजारो छेद| अरे भाई खुड्डे लाइन लगे हुए अजय माकन के श्रीमती शीला दीक्षित को दिल्ली से बाहर करने की चटखारे वाली ख़बरों को जनता भूली नहीं है इसीलिए भापा जी हरयाणा का प्रभार मिलते ही माकन जी ने फिर से अजय बनने के लिए कुछ नहीं किया तो अपनी क्लीन शेव दाढ़ी में भी तिनका क्यूँ टटोल रहे हैं ?

कपिल सिब्बल की डी यूं में चार साल के ग्रेजुएशन की घरैड को अब बहुरानी स्मृति ईरानी भुगत रही हैं

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

कांग्रेसी चीयर लीडर

ओये झल्लेया ये नई सरकार तो उच्च शिक्षा का भी बेड़ा गर्क करने पर तुल गई है |मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने यूं जी सी को [स्वायत ] दिल्ली यूनिवर्सिटी से भिड़ा दिया है |
केंद्र सरकार के अधीन यूं जी सी कह रही है कि ग्रेजुएट कोर्स चार साल के बजाय तीन साल का करो|ये तो डी यूं के लिए “करो तो भी मरो और न करो तो भी मरो” वाली स्थिति हो गई| डी यूं अगर यूं जी सी का पालन करके तीन साल का ग्रेजुएशन कोर्स करती है तो पुराने मंत्री कपिल सिब्बल से बुरा बनती है और अगर पालन नहीं करती तो मिलने वाले अनुदान+और डिग्री मान्यता दोनों हाथ से निकल सकते हैं|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाण जी पुरानी कहावत है कि “बिच्छू के काटे का मंतर आता नहीं चले हैं सांप के बिल में हाथ देने” अरे अपने देश में चालू तीन वर्षीय शिक्षा नीति का सही तरह से पालन कराने के बजाय विदेशी तर्ज पर चार साल का ग्रेजुएशन कोर्स करा डाला और चौथे साल के कोर्स को तैयार करने की कुछ तैयारी भी की नहीं |इसीलिए छात्रों ने भी बगावत की हुई है | आप जी की सरकार तो एक चतुर सास की तरह घरैड डाल कर निकल गई और ५०००० से ज्यादा छात्रों को एक साल के अप्रभावी कोर्स के लिए एक्स्ट्रा एक साल गवाना पड़ रहा है और खर्चा भुगतना पड़ रहा है |बेचारी नई नई बहुरानी स्मृति ईरानी को इस तीन और चार साल के गणित के सवाल हल करने के लिए माथा पच्ची करनी पड़ेगी | वैसे झल्ले विचारानुसार यह पहली बार नहीं हुआ है यूं पी टी यूं ने दशक पररव तीन साल का होटल मैनेजमेंट डिप्लोमा शुरू कराया था उस समय कहा गया था कि यह डिप्लोमा ग्रेजुएशन के समान है लेकिन कोर्स पूरा होते ही सभी कुछ बदल गया अब वह तीन साल का डिप्लोमा केवल डिप्लोमा ही है और सैकड़ों छात्र अपनी किस्मत को रो रहे हैं |

फैसले से 64,000 छात्र प्रभावित होंगे।

डॉ मन मोहन सिंह ने अल्प संख्यकों के कल्याण के लिए योजनाएं क्या घोषित की विज्ञान भवन में घरेड़ पड़ गई

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

आक्रोशित कांग्रेसी

ओये झल्लेया ये क्या गुंडा गर्दी हो रही है देख तो हसाडे सोणे ते मन मोहने प्रधान मंत्री ने विज्ञान भवन में नेशनल वक़फ़ डेवलपमेंट कारपोरेशन (NAWADCO) के कार्यक्रम में अल्प संख्यकों के कल्याण के लिए एक से बढ़ कर एक बढ़िया योजनाएं घोषित कर रहे थे तो एक विरोधी धड़े के डॉ फहीम बैग को बदहजमी हो गई और लग गया भाषण में घरेड़ डालने ओये श्री मति सोनिए गांधी ने भी अल्प संख्यकों के विकास के लिए राशि को १० गुना करने की बात कही थी लेकिन हम लोग इन घरेड़ों से डरने वाले नहीं हैं अल्प संख्यकों के के कल्याण के लिए समर्पित भाव से काम करते ही रहेंगे

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजाणा अल्प संख्यक तो खुद ही खैरात बांटने में विशवास करते हैं इसीलिए अल्प संख्यकों को चुनावी दौर में खैरात नहीँ बल्कि उनका हक मिलना चाहिए| देश में ४.९ लाख वक्फ प्रोपर्टीज पंजीकृत हैं और बद इंतजामी के कारण जस्टिस सच्चर कमेटी के अनुसार इनसे १२०० करोड़ रुपयों की आय के बजाय केवल १६३ करोड़ की आय ही हो रही है|इसीलिए वर्त्तमान में उपलब्ध योजनाओं को ही समय और सलीके से लागू किया जाये तो अल्प संख्यकों की हालात सुधर सकती हैं

मोदी का मुकाबिला करके अजय होने की घरेड़ में माकन बेचारे मरदूद भांभड़ भूसे में फंस ही गए

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

हवाबाज भाजपाई

वोह मारा पापड वाले को ओये झल्लेया हसाडे कमळ ने फिर कमाल कर दिया |गुजरात में नरेंदर भाई मोदी ने कमळ को खिलाने के लिए देश के पहले गृह मंत्री और इंडियन बिस्मार्क सरदार वल्ल्भ भाई पटेल की विशाल मूर्ती का शिलान्यास कर के कांग्रेसियों को भांभड़ भूसे में डाल दिया|मोदी ने कांग्रेस और प्रधान मंत्री को ऐसा शब्द जाल फैंका कि संचार विभाग के प्रमुख अजय माकन जैसे बेचारे खुद बा खुद गददी गैड़में फंसने लग गए हैं|
अरे भाई मोदी के गुजरात में दिए भाषण के फ़ौरन बाद दिल्ली में अजय माकन को आनन् फानन में प्रेस कांफ्रेंस बुलाने का आदेश दे दिया गया |इस नयी घरेड़ से बौखलाए माकन को मोदी के मन्त्रों की काट तो सूझी नहीं उलटे उन्होंने हसाडे मोदी को सम्भावित प्रधान मंत्री बता कर अपनी कमजोरी को उजागर कर दिया इससे हसाडा सीना और चौड़ा हो गया है जी |
माकन ने मोदी बनने के चक्कर में दक्षिण की एक महिला पत्रकार को कथित रूप से मिल रही धमकियों को ढाल बनाया और आर एस एस + मोदी को ही दोषी बता कर अपने गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे को उनके विरुद्ध कार्यवाही के लिए खुली छूट दे दी| सरदार वल्लभ भाई पटेल पर यदि किसी ने लेख लिखा है तो उससे मोदी को क्या लेना देना |अब अगर पत्रकार को धमकियाँ मिल रहे हैं तो बिना जांच कराये ही मोदी को टारगेट करना और आर एस एस को उकसाना तो सरासर अकल नहीं -अकाल मंदी है| और मेरी मानो तो कांग्रेस ने फिर से पटेल विरोधी छवि को उजागर किया है|

झल्ला

हाँ जी लगता तो है कि मोदी का मुकाबिला करके अजय होने के चक्कर में माकन बेचारे मरदूद घरेड़ में फंस ही गए बिना जांच कराये आरोप तय करना पुराना खेल हैअब ये महाशय जी उस पीड़ित पत्रकार से लड़ाई लड़ने के लिए अधिकार पत्र ला पाये तो कुछ दिन और ये ड्रामा चल सकता है|

चुनावी मौसम में मोदी को एस पी जी सुरक्षा देने का मतलब है कांग्रेसी भैंस गई पानी में

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

निराश भाजपाई

ओये झल्लेया ये कांग्रेसी तो एकदम नंगई पर उतर आये हैं देख तो इनके शहजादे राहुल गांधी कहते फिर रहे हैं कि उनकी जान को खतरा है लेकिन जेड पलस सुरक्षा वाले हसाडे नरेंद्र मोदी की तो पूरी रैली को ही उड़ाने के प्रयास बिहार में हो चुके है इस पर भी गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने मोदी जी को एस पी जी सिक्यूरिटी मुहैय्याकरवाने से साफ़ इंकार कर दिया |

झल्ला

ओहो सेठ जी आप बार बार ये भूल जाते हो कि ये कांग्रेसी सदियों पुरानी पार्टी है इसमें घाट घाट से पानी लाकर नेताओं को तैयार किया जाता है| इसीलिए इन्हे मालूम है कि अगर इस स्टेज पर मोदी को प्रधान मंत्री को मिलने वाली एस पी जी सुरक्षा दे दी गई तो समझो कांग्रेस ने मोदी को दे दिया विजयी भव का वरदान

भाजपाई “कमल” पर लक्ष्मी की सुनामी लाने का वायदा कर रहे हैं ऐसे में इसी “कमल” से वोट निकालने का कांग्रेसी हक़ तो बनता है

झल्ले दी झल्लियां गल्लां

आक्रोशित भाजपाई

ओये झल्लेया कांग्रेसियों को अपनी हार पच नहीं रही है देख तो मध्य प्रदेश में कांग्रेसियों को तालाबों में खिले नयनाभिराम कमल भी फूटी आँख नहीं भा रहे | इनका बावला पण तो देखोतलब के कमल को भाजपा के चुनावी कमल बता रहे हैं | मालवा+बुंदेल खंड और महा कौशल में तालाबों को ढकवाने के लिए पर्यावरण विरोधी कदम उठाने को चुनाव आयोग के तरले करने पर जुटे हैं| ओये हमने भी कह दिया है कि पर्यावरण के विनाश के लिए अगर तालाबों को ढका जाएगा तो हमने भी इनके शरीर पर लगे हाथों [कांग्रेसी चुनाव चिन्ह]को ढके जाने की मांग कर देनी है

|
झल्ला

अरे सेठ जी आप लोग चुनावी मौसम में पूरे देश में कमल के फूल पर लक्ष्मी की सुनामी लाने का आश्वासन देते नहीं थक रहे ऐसे में कमल से वोट निकालने का हक़ तो कांग्रेसियों का बनता ही है|हाँ अगर तालाब ही ढके जायेंगे तो लक्ष्मी और वोट दोनों रुष्ठ हो सकते हैं|सो सोच लो