Ad

Tag: NavjotSinghSidhu

बकौल सिद्धू,गोडडे छूना तो आदर की संस्कृति है, फिर ऐएसआई का निलम्ब क्यूँ

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

पंजाबी कांग्रेसी चेयर लीडर

औए झल्लेया ! हसाड़े कैप्टेन साहिब की सरकार में चमचो को कोई स्थान नहीं है |औए फ़तेह गढ़ में चूड़ियां में तैनात सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) पलविंदर सिंह ने हसाड़े मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा साहिब के घर पर जा कर उनके पाँव छु कर चमचागिरी करने की कोशिश की और पोलिस की छवि को बदनाम करने के कोशिश की तो मंत्री जी ने तत्काल बार्डर रेंज के महानिरीक्षक एस पी एस परमार को फोन करके ऐ एस आई को निलंबित करा दिया|

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान!
बकौल आपके स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ,गोडों को छूना तो आदर सत्कार की संस्कृति में शामिल है |वे स्वयं भी विरोधियों के गोडों को छूते आ रहे हैं | अब बेचारे की व्यथा दूर करने के स्थान पर निलंबन कुछ ज्यादा शोशे बाजी तो नहीं हो गई ???

सिद्धू साहिब!जालंधर में अवैध निर्माणों पर आपके पिछले दौरे के अपडेट्स क्या है

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

पंजाब कांग्रेस का चेयर लीडर

औए झल्लेया मुबारकां!हसाड़े हरफनमौला नवजोत सिंह सिद्धू जी ने जालंधर में भी अपनी धाक जमा ली है|औए अब तो उनके आगमन क खबर मात्र से अधिकारियों की सुत्थणे गीली हो जाती है |अब तो इस ऐतिहासिक शहर की काया कल्प हो जानी है |भ्र्ष्टाचार गायब हो जाना है|

झल्ला

मेरे चतुर सुजान जी ! आपजी की सारी गल्लां सर मत्थे लेकिन ये बता दो के सिद्धू साहिब को जब पिछला दौरा पढ़ा था तब उन्होंने अवैध कालोनी में प्रेस कॉनफेरेन्स करके लगभग ३५ अवैध कालोनियों+अवैध निर्माणों के खिलाफ कार्यवाही का शंखनाद करते हुए ८ अफसरों को सस्पेंड किया था |उस प्रकरण का अपडेट्स क्या है?

सिद्धू ने ड्रग+सैंड माफिया को छोटा दिखाने को “अवैध निर्माण” को बढ़ा किया

झल्ले दी झल्लियाँ गलां

कांग्रेस का पंजाबी चेयर लीडर

औए झल्लेया ! हसाड़े लाफिंग जट्ट नवजोत सिंह सिद्धू ने जालंधर में झंडे गाड़ दिए |औए पंजाब में करप्शन के प्रति जीरो टोलेरेंस की निति का पालन करते हुए उन्होंने अवैध निर्माण को मौके पर जाकर रुकवा दिया और दोषी ऑफिसर्स को ससपेंड भी करा दिया

झल्ला

मेरे चतुर सुजान जी ! सिद्धू ने ड्रग+सैंड माफिया को छोटा दिखाने को “अवैध निर्माण” को बढ़ा किया हैं
किसी भी खींची हुई लकीर को छोटा साबित करने के लिए उसके सामने बढ़ी लकीर खींचने की पुराणी राजनितिक चालें हैं |आपजी के सिद्धू ने भी ड्रग और सैंड माफिया जैसी लकीरों को छोटा दिखाने के लिए अवैध निर्माण को बढ़ी लाइन के रूप में पेश कर दिया है|

सिद्धू ने कांग्रेस अध्यक्षों के पश्चात् स्वर्ण मंदिर में भी शुक्राना अदा किया

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

नवजोत सिंह सिद्धू प्रशंसक

औए झल्लेया मुबारकां ! औए हसाड़े लोकल बॉडी मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार को श्री हरमिंदर साहब में माथा टेका+ स्वर्ण मंदिर की परिक्रमा की और गुरुओं की अमृत वाणी का श्रवण भी किया औए सिद्धू साहब ने मिनिस्टर बन कर भी गुरु घर की लड़ नहीं छड्डी

झल्ला

भोले बादशाहो! ३० साल पुराने कत्ल के केस में सुप्रीम कोर्ट से बरी होने में कांग्रेस और गुरु महाराज दोनों का आशीर्वाद था
जब सिद्धू साहिब ने कांग्रेस के अध्यक्षों का उनके निवास पर जाकर शुक्राना अदा कर दिया तो अब गुरुमहाराज के दरबार में भी हाजरी लाजमी होजाती है

सिद्धू ने ३० साल पुराने कत्ल केस में बरी होने पर सोनिया को शुक्राना अदा किया

[चंडीगढ़,पंजाब]सिद्धू ने ३० साल पुराने कत्ल के केस में बड़ी होने पर सोनिया+प्रियंका +राहुल गाँधी को शुक्राना अदा किया
पंजाब के टूरिज्म +लोकल बॉडी मिनिस्टर मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी और उनकी पुत्री श्रीमती प्रियंका वढेरा गांधी से दिल्ली में मुलाकात की।
एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार सिद्धू ने अपनी मुलाकात के दौरान पार्टी आलाकमान के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहरायी।
1988 के रोड रेज मामले में उच्चतम न्यायालय से राहत मिलने के बाद ‘‘ नयी पारी शुरू करने ’’ के पहले सिद्धू ने सोनिया गांधी से आशीर्वाद लिया।
सिद्धू ने प्रियंका गांधी से भी मुलाकात की और कहा कि वह उनके लिए प्रेरणास्रोत रही हैं जिन्होंने मुश्किल घड़ी में उनका साथ दिया।ज्ञात हो के पिछले दिनों कांग्रेस के महाधिवेशन में नवजोत सिंह सिद्धू ने कांग्रेस पूर्व अध्यक्षा और उनके पुत्र राहुल गाँधी के साथ पूर्व पी एम डॉ मन मोहन सिंह की भी जम कर प्रशंसा कर और वर्तमान पी एम नरेंद्र मोदी की आलोचना करके उपस्थित कांग्रेसियों की तालियां बटोरी थी
अपने इस भाषण नुमा स्टेंडिंग कॉमेडी शो में सिद्धू ने कहा था के अगर में[ सिद्धू] रह गया तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को २०१९ में प्रधान मंत्री बनवा कर ही छौडूँगा| इस बात पर श्रीमती सोनिया गाँधी ने सवालिया मुद्रा बनाई थी| उस समय सम्भवत सिद्धू का इशारा इसी मुकदद्मे की तरफ रहा होगा क्योंकि उसके पश्चात् जस्टिस जे चेलमेश्वर की बेंच ने सिद्धू की तीन साल की सजा और एक लाख रु के जुर्माने को माफ़ कर दिया |सिद्धू ने २०१७ में कांग्रेस ज्वाइन की थी|
मालूम हो के १९८८ में पार्किंग के ठेकेदार से हाथापाई में एक वरिष्ठ नागरिक की मृत्यु हो गई थी|तभी से उनके विरुद्ध केस चल रहा था| हाई कोर्ट ने सिद्धू को तीन साल की कैद और एक लाख रु जुर्माना की सजा सुनाई थी
फाइल फोटो

सिद्धू को सुप्रीम कोर्ट ने ३० साल पुराने केस में बरी करके पुनः हंसाने का अवसर दिया

[नई दिल्ली,चंडीगढ़,पंजाब ] सिद्धू को ३० साल पुराने केस में बरी करके सुप्रीम कोर्ट ने पुनः हंसाने का अवसर दिया
लाफिंग जट्ट नवजोत सिंह सिद्धू पर ३०साल से गैरइरादतन हत्या का मुकद्दमा चल रहा था |हाई कोर्ट से तीन साल की कैद की सजा पाए सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाईं थी | आज सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व क्रिकेटर और पंजाब में स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को गुरनाम सिंह से मामूली रोडरेज में झगड़े का दोषी ही पाया|और इस बहु प्रतिभासम्पन्न पर महज हजार रु का जुर्माना लगाकर छोड़ दिया| १८ अप्रैल को सुरक्षित रखे गए इस फैंसले को जस्टिस जे चेलमेश्वर और जस्टिस संजय किशन कौल की पीठ द्वारा सुनाया गया|सिद्धू टीवी पर कॉमेडी शो में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते आ रहे हैं |

सिद्धू,पंजाब में लोकलबॉडी के एकाउंट्स में डबलएंट्री सिस्टम लागू करवा पाएंगे ?

झल्ले दी झल्लियाँ गल्लां

पंजाबी कांग्रेस का चेयर लीडर

औए झल्लेया !ये पिछली सरकारों ने क्या कुफ्र कमाया |बाबा जी की नगरी अमृतसर के इम्प्रूवमेंट ट्रस्ट और नगर निगम में नाइजीरिया से भी बढ़ा घोटाला कर दिखाया |इन दोनों ने मिल कर ७१+५१=१२२ बैंक खाते खोल कर बैंक स्टेटमेंट खुर्द बोर्ड कर लिए और अपने वारे न्यारे कर लिए |औए हसाड़े धाकड़ नवजोत सिंह सिद्धू ने पहली बार ऑडिट करवा कर दूध का दूध और पानी का पानी करके दिखा दिया |

झल्ला

ओ मेरे चतुर सुजान जी!यहाँ तक तो सब ठीक ही है लेकिन लोकल बॉडी में सिंगल एंट्री सिस्टम लागू रखे रहने से ऐसे फ्रॉड पूरे भारत भर में होते होंगे|तो क्या आपजी के सिद्धू साहिब अपने मंत्रालय में डबल एंट्री सिस्टम लागू करवा कर इस फ्रॉड की गंगा को रोक पाएंगे?और क्या दोषियों को रेतखनन +ड्रग माफिया की भाँती पतली गली से निकल जाने देंगे ? वैसे रब्ब झूट ना बुलवाये आपके सिद्धू साहिब उस समय तत्कालीन अकालियों की सरकार के पाले में थे और अब जीरकपुर के पुष्प एम्पायर का क्या हुआ ?

सिद्धू के विवादों की नवजोत:आचार संहिता का उल्लंघन

[जालंधर, पंजाब] सिद्धू के जीवन में विवादों की नवजोत आये दिन प्रज्वलित होती रहती है शायद इसीलिए विवाद उनका पीछा नहीं छोड़ रहे |अब उन्होंने कॉलेज को ग्रांट देकर अपने विरुद्ध कार्यवाही को आमंत्रित कर लिया है|
नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब सरकार में स्थानीय निकाय मंत्री हैं उन्होंने आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए जालंधर के एक निजी कॉलेज की कंप्यूटर लेब के लिए १० लाख रु की ग्रांट देने की घोषणा की है जबकि शाहकोट उपचुनाव के चलते जिले में आचार संहिता लगी हुई है जिसके चलते ग्रांट की घोषणा संहिता का उल्लंघन माना जा सकता है |
स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू एक नई मुसीबत में फंस गए हैं। इस बार सिद्धू ने आचार संहिता का उल्लंघन किया है।
शाहकोट उपचुनाव के चलते आचार संहिता लगी हुई है। सरकार द्वारा की गई कोई भी घोषणा आचार संहिता का उल्लंधन है|

सिद्धू साहिब पहले सो रहे थे क्या ?

सिद्धू साहिब पहले सो रहे थे क्या”?
पंजाब के जीरकपुर के पीरमुछल्ला में एक अवैध बिल्डिंग के खिलाफ
अनेकों शिकायतें दर्ज करने के बावजूद जब कार्यवाही नहीं हुई तो
रिहाईशी बिल्डिंग भर गई और फिर भरभरा कर गिर गई ,इससे सत्तारूढ़ कांग्रेस की साख को भी झटका लगा|
इस पर लोकभलाई का वास्ता देते हुए लोकल बॉडी मिनिस्टर नवजोत सिंह सिद्धू ने १९ अप्रैल की रात को पूरी बिल्डिंग ही सील करवा दी
अब उस बिल्डिंग में रहने वाले बेघर हो रहे लगभग ५० परिवारों ने पूछ ही लिया “सिद्धू साहिब पहले सो रहे थे क्या?
प्राप्त जानकारी के अनुसार बिल्डिंग बनाने वाला पुष्प एम्पायर अकाली दल से वाबस्ता है जबकि शिकायत करता स्थानीय कांग्रेसी नेता है |जिसकी पुकार पर सिद्धू दौड़े चले आये लेकिन पीड़ितों के दर्द सुलझाने के बजाय बिल्डिंग ही सील करा गए

सिद्धू के खिलाफ पार्किंग ठेकेदार को मारने के केस में एससी का फैंसला सुरक्षित

[चंडीगढ़,दिल्ली] सिद्धू के खिलाफ पार्किंग ठेकेदार को मारने के केस में एससी का फैंसला सुरक्षित |सुप्रीम कोर्ट ने नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ एक पार्किंग ठेकेदार को मारने के केस में अपना फैंसला सुरक्षित रख लिया है|३० साल पुराने इस अपराध में निचली अदालत ने सिद्धू को आरोपमुक्त कर दिया था लेकिन हाई कोर्ट ने आरोपी को गैरइरादतन हत्या का दोषी करार दे दिया और ३ वर्ष की सजा सुनाई थी |सिद्धू ने अब सुप्रीम कोर्ट में हाई कोर्ट के फैंसले को चुनौती दी है|
२७ दिसंबर १९८८ को पटिआला में ६५ वर्षीय गुरनाम सिंह को कार पार्किंग विवाद में आवेश में आकर सिद्धू ने मुक्का मार कर गिरा दिया था जिसके पश्चात् उसकी मृत्यु हो गई थी |सिद्धू वर्तमान में पंजाब में कांग्रेस की सरकार के लोकल बॉडी मिनिस्टर हैं